06_16

Divine Chants of Shree Ram

Album : Divine Chants of Shree Ram
Singer : Devaki Pandit, Hariharan, Anup Jalota, Ashit Desai
Language : Sanskrit
Lable : Times Music
Genre : Devotional, Deities, Festival, Chants, Ram, Ram Navami

Free Lord Shri Rama Bhajans And Chants Here :-


01_-_Ram_Shlok.mp3

02_-_Shri_Ram_Jai_Ram.mp3

03_-_jai_raghunandan_jai_siyar.mp3

04_-_Shri_Ram_Jai_Ram.mp3

05_-_prem_mudit_man_se_kaho.mp3

06_-_Jin_Ram_Na_Jaana_Kya_Jaan.mp3

07_-_Raghukul_Bhushan_Raja_Ram.mp3

08_-_Shri_Ram_Ram_Ram.mp3

09_-_shri_ram_chandra_krupalu.mp3


जो भी शरण तुम्हारी आता, उसको धीर बंधाते |
नहीं डूबने देते दाता, नैया पार लगाते ||
तुम न सुनोगे तो किसको मैं अपनी व्यथा सुनाऊँ |
द्वार तुम्हारा छोड़ के भगवन और कहाँ मैं जाऊँ ||


Sri Krishna shtakam, Dhun, Sholaks And Bhajans Free Download

Free Download And Play Online Sri Krishnashtakam, Dhuns, Sholaks And Bhajans By 
Singer : Ashit Desai, Anuradha Paudwal, Pt. Prabhakar Karekar, Shankar Mahadevan, Hema Desai, Vijay Prakash, 

Free Download Sri Krishna, Dhun, Sholaks And Bhajans :-


2 Murliya Baji Re Yamuna Ke Teer (meerabai).mp3

3 Shri Krishna Avahanam.mp3

4 Hare Krishna Hare Rama.mp3

5 Chatushloki Krishna Stotra.mp3

6 Bhaj Govidam.mp3

7 shri krishna dwadashnaam stotram.mp3

8 Krishnashtakam.mp3

9 Ekadash geeta shlokas.mp3

10 Shri Krishna Dhun.mp3

Muraliya baje jamuna teer


मुरलिया बाजे जमुना तीर
मुरलिया बाजे जमुना तीर

मुरली सुनत मेरो मन हर लीन्हू
चित्त धरत नहीं धीर
मुरलिया बाजे जमुना तीर

कारो कन्हैय्या कारी कनरिया
कारो जमुना को नीर
मुरलिया बाजे जमुना तीर

मीरा के प्रभु गिरिधर नागर
चरण कमल पर सीर
मुरलिया बाजे जमुना तीर


Nirguni Bhajans - Pt. Kumar Gandharva, Veena Tai, Devki Pandit

Free Download Kabir Das Ji Nirguni Bhajans By Pandit. Kumar Gandharva, Veena Tai, Pt. Jitandra Abhisheki

जब मैं रहती अनहत वाणी,
तब पिया सुख हो ना बोले।
जब मैं भईला राख बराबर,
साहिब अंतर बोले। 

Download Nirguni Bhajans Here :-


1. पं जितेन्द्र अभिषेकी - एक सूर चराचर छायो रे.mp3

2. पं. कुमार गंधर्व - उड जायेगा हंस अकेला.mp3

3. पं. कुमार गंधर्व - हिरन समझ बूझ.mp3

4. पं. कुमार गंधर्व- अवधूता कुदरत की गती न्यारी.mp3

5. पं. कुमार गंधर्व- गुरूजी म्हारे डर लागे.mp3

6. पं. कुमार गंधर्व- झिनी झिनी भीनी चदरिया.mp3

7. पं. कुमार गंधर्व- भोला मन जाने.mp3

8. पं. कुमार गंधर्व- सुनता है गुरू ग्यानी ग्यानी.mp3

9. वीणाताई - घट घट मे पंक्षी बोलता है.mp3

10. वीणाताई - धुन सुनके .mp3

11. वीणाताई - निर्भय निर्गुण.mp3

12. वीणाताई - युगन युगन .mp3


Ghat Ghat Mein Panchi Bolta... 


घट घट में पंछी बोलता है.

घट घट में पंछी बोलता जी।

आप ही माली आप बगीचा, आप ही कलियाँ तोड़ता जी॥
घट घट में पंछी बोलता . . .

आप ही डंडी आप तराज़ु, आप ही बैठा तोलता जी॥
घट घट में पंछी बोलता . . .

सब में सब बन आप समाये, जड़ चेतन में डोलता।
कहत कबीरा सुनो भई साधो, मन की हुंडी खोलता जी॥
घट घट में पंछी बोलता . . .